simhasthujjain

निकटवर्ती स्थान

कालिदास अकादमी कालिदास अकादमी

मध्यप्रदेश शासन, संस्कृति विभाग के सौजन्य से कालिदास अकादमी की स्थापना उज्जैन में सन् 1978 में हुई और वर्ष 1982 से अकादमी के अपने निजी भवन में कार्य संचालित होने लगा। महाकवि कालिदास समूची सांस्कृतिक परम्परा एवं भारतीय चेतना के प्रतीक है।

निरंतरं...
विक्रम विश्वविद्यालय विक्रम विश्वविद्यालय

उज्जैन अपनी प्राचीन समृद्ध सांस्कृतिक और धार्मिक परंपराओं के लिए जाना जाता है। प्राचीन समय से ही अध्ययन का केंद्र बना रहा है। इसलिए स्वतन्त्रता के बाद प्रदेश की सम्मानित हस्तियों ने केंद्र सरकार से उज्जैन में विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए आग्रह किया।

निरंतरं...
वेध शाला वेध शाला

इस वेधशाला का निर्माण जयपुर के महाराज सवाई राजा जयसिंह ने सन १७१९ में ( दिल्ली के सम्राट मुहम्मद शाह के शासनकाल में रहे थे ) किया था, राजा जयसिंह शूर सेनानी, राजनीतिज्ञ व्यस्थापक तो थे ही, विशेष रूप से विद्वान भी थे !

निरंतरं...
कालियादेह महल (सूर्य मन्दिर) कालियादेह महल (सूर्य मन्दिर)

भैरवगढ़ से ३ मील उत्तर में यह महल सूर्य मंदिर व प्रेत पीड़ा से मुक्तिदाता,बावन कुण्ड :कालियादेह महल के नाम से भी जाना जाता है। सूर्य अर्थात कालप्रियदेव ही आज 'कालियादेह' कहलाता है। इससे स्पष्ट है कि यह पौराणिक देवता सूर्य का प्राचीन स्थान रहा होगा।

निरंतरं...
भर्तृहरि गुफा भर्तृहरि गुफा

उज्जयिनी की सांस्कृतिक प्राचीन परंपरा में भर्तृहरि एक महत्वपूर्ण नरेश, तपस्वी एवं लेखक रहे है। यह स्थान बड़ा शांत और रम्य है। यह शिप्रा के किनारे गढ़कालिका मंदिर से १ की. मी. आगे है। भर्तृहरि राजा विक्रमादित्य के ज्येष्ठ भ्राता थे।

निरंतरं...
सान्दीपनि आश्रम सान्दीपनि आश्रम

यह सान्दीपनि ऋषि का आश्रम है। सांदीपनि आश्रम धार्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है। जिस समय भगवान श्री कृष्ण विद्या अध्यन के लिए अवन्ति आये उस समय तक्षशिला और नालंदा की तरह ही अवन्ति ज्ञान -विज्ञान और संस्कृति की संगम स्थल रही है।

निरंतरं...

उज्जैन कैसे पहुँचें

travels उज्जैन भारत में क्षिप्रा नदी के किनारे बसा मध्य प्रदेश का एक प्रमुख धार्मिक नगर है।

गूगल मानचित्र

संगीत

समाचार